अटल पेंशन योजना | Atal Pension Yojana (APY) | अटल पेंशन योजना Online Application: All You Need to Know

अटल पेंशन योजना | Atal Pension Yojana | APY Online Registration | पीएम अटल पेंशन योजना आवेदन | Atal Pension Yojana Chart and Benefits | Atal Pension Yojana Scheme

अटल पेंशन योजना (APY) की शुरुवात नए केंद्र सरकार के शुरुवाती चरण में हुई थी | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 1 जून 2015 को इसकी शुरुवात की गयी थी | APY में कोई भी भारतीय निवेश कर सकता है| इस योजना का लाभ उठाने के लिए आपका बैंक खाता होना जरूरी है | इस योजना के अंतर्गत लाभार्थियों की 60 वर्ष की आयु होने के बाद 1000 रु से लेकर 5000 रु तक की धनराशि पेंशन के रूप में प्रतिमाह दी जाएगी |

अटल पेंशन योजना (APY), भारत के नागरिकों के लिए असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों पर केंद्रित एक पेंशन योजना है। APY के तहत, 60 साल की उम्र में 1,000/- या 2,000/- या 3000/- या 4000 या 5000/- प्रति माह रुपये की न्यूनतम पेंशन की गारंटी ग्राहकों द्वारा योगदान के आधार पर दिया जाएगा। Atal Pension Yojana के तहत पेंशन की धनराशि(Amount) लाभार्थियों के द्वारा किये गए निवेश तथा उम्र के हिसाब से निश्चित की जाएगी | APY 2021 में ना केवल आप कम राशि जमा करवाकर हर माह ज्यादा पेंशन के हकदार हो सकते हैं, बल्कि असामयिक मृत्यु की दशा में अपने परिवार को भी इसका फायदा दिलवा सकते हैं |अटल पेंशन योजना में निवेश करने वाले व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसकी पत्नी और पत्नी की भी मृत्यु होने की स्थिति में बच्चों को पेंशन मिलने का प्रावधान है | रिटायर होने के बाद जीवनभर पेंशन पाने के लिए आपको पेंशन स्कीम में कुछ सालों तक ही निवेश करना होता है | आपके निवेश के साथ ही सरकार भी अटल पेंशन योजना में अपनी ओर से भी अंशदान देती है.

APY  के निम्नलिखित पात्रता मानदंड हैं:

  • ग्राहक की उम्र 18 से 40 साल के बीच होनी चाहिए |
  • उसका एक बचत बैंक खाता डाकघर/बचत बैंक में होना चाहिए |
  • भावी आवेदक APY अकाउंट में समय-समय पर अपडेट की प्राप्ति की सुविधा के लिए पंजीकरण के दौरान बैंक को आधार और मोबाइल नंबर लिंक होना चाहिए |
  • आवेदक का आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • स्थायी पता का प्रमाण
  • पासपोर्ट साइज फोटो
योजना का नाम  अटल पेंशन योजना
द्वारा लॉन्च किया गया  केंद्र सरकार(PM मोदी जी )
लाभारधी देश के असंगठित क्षेत्रो के लोग
उद्देश्य पेंशन प्रदान करना
जाच  द्वार(portal) https://npscra.nsdl.co.in/scheme-details.php
हेल्पलाइन नंबर 1800110069

अटल पेंशन योजना(APY) के अंतर्गत अब तक 40 लाख से अधिक पंजीकरण हुए हैं तथा कुल अंशधारकों की संख्या 2.63 करोड़ के पार हो चुकी है। इस योजना के अंतर्गत 18 वर्ष 40 वर्ष की आयु का व्यक्ति निवेश कर सकता है और निवेशक की 60 वर्ष की आयु पूर्ण होने के बाद उन्हें पेंशन प्रदान की जाती है। यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु 60 वर्ष से पहले हो जाती है तो पेंशन उनके जीवनसाथी को प्रदान की जाती है।

पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी के द्वारा अटल पेंशन योजना को मौजूदा बचत खाताधारकों के ऑनबोर्डिंग के लिए वैकल्पिक चैनल शुरू करने की अनुमति प्रदान की गई है। अब खाताधारक किसी भी नेट बैंकिंग या मोबाइल ऐप का उपयोग किए बिना अटल पेंशन योजना के अंतर्गत अपना खाता खुलवा सकता है।

अटल पेंशन योजना(APY) से निकासी प्रक्रिया

APY एक पेंशन योजना है जो आपको रिटायरमेंट के बाद ही दिया जायेगा मतलब इसका लाभ खाताधारक 60 वर्ष की आयु के बाद ही होगा और इसके लिए खाताधारक को 60 वर्ष की आयु तक कंट्रीब्यूशन की राशि प्रदान करना होगा |लेकिन कुछ खास परिस्थितियों में जैसे कि किसी की मृत्यु या फिर कोई बीमारी की स्थिति में अटल पेंशन योजना से एग्जिट किया जा सकता है।

  • 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर :- 60 वर्ष की समाप्ति पर ग्राहक संबंधित बैंक को गारंटी न्यूनतम मासिक पेंशन या अधिक मासिक पेंशन निकासी के लिए, अगर निवेश रिटर्न एपीवाई में एम्बेडेड गारंटीड रिटर्न की तुलना में अधिक हैं। मासिक पेंशन की समान राशि ग्राहक की मृत्यु पर पति या पत्नी (डिफ़ॉल्ट नामित) को देय है। नामांकित ग्राहक और पति या पत्नी दोनों की मौत पर 60 साल की उम्र तक संचित पेंशन धन की वापसी के लिए पात्र होंगे।
  • 60 साल की उम्र के बाद किसी भी कारण की वजह से ग्राहक की मृत्यु के मामले में :- ग्राहक की मृत्यु के मामले में, वही पेंशन पति या पत्नी को देय है और दोनों की मृत्यु पर (ग्राहक और पति या पत्नी) 60 साल की उम्र तक संचित पेंशन धन नामांकित को वापस किया जायेगा।
  • 60 साल की उम्र से पहले बाहर निकलना :- यदि एक ग्राहक, जिसने एपीवाई के तहत सरकार के सह-योगदान का लाभ उठाया है, भविष्य में स्वेच्छा से एपीवाई बाहर निकलने के लिए चुनता है तो उसे केवल एपीवाई में उनके द्वारा किया गया योगदान उनके योगदान पर अर्जित शुद्ध वास्तविक अर्जित आय के साथ-साथ खाते के रखरखाव शुल्क घटाने के बाद वापस किया जाएगा। सरकार के सह-योगदान है, और सरकार के सह-योगदान पर अर्जित आय, इस तरह के ग्राहकों के लिए वापस नहीं किया जाएगा।

अटल पेंशन योजना के लाभ

  • अटल पेंशन योजना के तहत न्यूनतम पेंशन की इस अर्थ में सरकार द्वारा की गारंटी होगी कि यदि पेंशन योगदान पर वास्तविक रिटर्न अंशदान की अवधि के दौरान कम हुआ या अधिक हुआ तो सरकार द्वारा अतिरिक्त लाभ ग्राहक के खाते में जमा किया जायेगा जिससे ग्राहकों को बढ़ा हुआ योजना लाभ मिलेगा।
  • इस योजना के तहत सेक्शन 80 CCD (1B) के अंतर्गत निवेशक को ₹50000 की इनकम टैक्स डिडक्शन प्रदान की जाएगी।

योगदान की विधि, कैसे योगदान करें और योगदान की नियत तारीख

  • योगदान मासिक/तिमाही/छमाही अंतराल पर बचत बैंक खाता/ग्राहक के डाकघर बचत बैंक खाते से ऑटो डेबिट सुविधा के माध्यम से किया जा सकता है।
  • यह योगदान महीने के किसी भी विशेष तारीख को खाते से ऑटो डेबिट हो जायेगा |

निरंतर चूक के मामले में

  • ग्राहकों को अपने बचत बैंक खातों/डाकघर बचत बैंक खाते में निर्धारित दिनांक देरी योगदान के लिए किसी भी ब्याज से बचने के लिए पर्याप्त राशि रखनी पड़ेगी |
  • अगर किसी ग्राहक के बैंक में अपर्याप्त राशि होगी तो को प्रत्येक देरी के लिए उसे महीने के योगदान के लिए प्रत्येक 100 रुपये में देरी के 1 रुपये प्रति महीने लगेगा |
  • अटल पेंशन योजना के अंतर्गत यदि कोई ग्राहक कंट्रीब्यूशन नहीं करता है तो उसका अकाउंट 6 महीने बाद फ्रीज कर दिया जाएगा और 12 से  24 महीने के बाद उसका अकाउंट बंद कर दिया |

अटल पेंशन योजना के तहत सरकार के सह-योगदान प्राप्त करने के लिए कौन पात्र नहीं है :

  • कर्मचारी भविष्य निधि और विविध प्रावधान अधिनियम, 1952
  • कोयला खान भविष्य निधि और विविध प्रावधान अधिनियम, 1948
  • असम चाय बागान भविष्य निधि और विविध प्रावधान, 1955
  • नाविक भविष्य निधि अधिनियम, 1966
  • जम्मू-कश्मीर कर्मचारी भविष्य निधि और विविध प्रावधान अधिनियम, 1961
  • कोई भी अन्य वैधानिक सामाजिक सुरक्षा योजना

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • यह एपीवाई खाते में नामांकन विवरण प्रदान करना अनिवार्य है। यदि ग्राहक विवाहित है तो पति या पत्नी डिफ़ॉल्ट नामित होंगें। अविवाहित ग्राहक नामित के रूप में किसी भी अन्य व्यक्ति को मनोनीत कर सकते हैं पर शादी के बाद उन्हें पति या पत्नी की जानकारी प्रदान करनी होगी। पति या पत्नी और नामित के आधार की जानकारी प्रदान की जा सकती है।
  • एक ग्राहक केवल एक एपीवाई खाता खोल सकते हैं और यह अद्वितीय है। एकाधिक खातों की अनुमति नहीं है।
  • एक ग्राहक एक वर्ष के के दौरान एक बार पेंशन राशि को बढ़ाने या घटाने के लिए विकल्प चुन सकते हैं।
  • एपीवाई ग्राहकों को पीआरएएन की सक्रियता, खाते में शेष राशि, योगदान क्रेडिट आदि के बारे में एसएमएस अलर्ट के माध्यम से समय-समय पर जानकारी सूचित कर दी जायेगी। ग्राहक को साल में एक बार खाते का भौतिक विवरण भी दिया जाएगा।
  • एपीवाई का सालाना भौतिक विवरण भी ग्राहकों के लिए प्रदान किया जाएगा।
  • योगदान आवास/स्थान के परिवर्तन के मामले में भी ऑटो डेबिट के माध्यम से बिना रूकावट के प्रेषित किया जा सकता है।
  • योजना केवल भारतीय नागरिक के लिए ही है।
  • ग्राहक अप्रैल के महीने के दौरान एक वर्ष में एक बार ऑटो डेबिट सुविधा के मोड (मासिक/तिमाही/छमाही) को बदल सकते हैं।

 

 

 

Source: www.india.gov.in/